Skip to main content
Image

अस्थाई कांजी हाउस के नाम पर अवैध वसूली

पवन तिवारी 
धमतरी। धमतरी जिले के ग्राम खपरी में अस्थाई कांजी हाउस बनाकर ग्राम समिति द्वारा अवैध वसूली की जा रही है, अस्थाई कांजी हाउस में दलदल में एंव खुले आसमान में रखकर पशु कु्ररूता किया जा रहा है हमारे सवांददाता को ग्रामीणों द्वारा शिकायत मिलने पर करीब 4 बजे ग्राम खपरी पहुंच कर अस्थाई कांजी हाउस को निरीक्षण किया तो पता चला की वहां 35 जानवर अस्थाई कांजी हाउस मे लाकर बंद किया गया है वहां बैठे नरेश धु्रव एंव उसके साथी से पुछताछ की तो बताया कि हम 55 जानवर लाये थे। जो हमारी फसलों को नुकसान पहुचंा रहे थे कई बार उक्त गांव के लोगों को आगाह किया गया था पर वे नही मान रहे थे। इस कारण हमारी ग्राम समिति ने हमेें मौखिक रूप से नियुक्ति दी गई थी। धमतरी जिले के समीप ग्राम खपरी में अस्थाई कांजी हाउस अवैघ वसूली का मामला सामने आया।
जानवरों से परेशान होकर ग्राम समिति के पदाधिकारी एंव ग्रामवासियों द्वारा अस्थाई कांजी हाउस बनाया गया जहां जानवरों को दलदल में एंव खुले आसमान में रखा गया है और जानवरों को अस्थाई कांजी हाउस में रखा गया था उनके मालिक आने पर उसने वसूली के नाम पर प्रति जानवर 200 वसूल किया जा रहा है। और चारा के नाम पर मात्र पैरा दिया जा रहा था। पकडे गये सभी जानकरों की दयनीय स्थिति है। जिस जगह जानवरों को रखा गया है वो जगह दलदल युक्त खुले आसमान पर है। 24 घंटों से उपर दलदल में खुले आसमान में खडे होने के लिए मजबूर है। इस ठंड के मौसम में जहां इंसान की हालत तो खराब ही है तो जानवरों को क्या हश्र होगा।
करीब -ढ़ेड माह पहले मगरलोड ब्लाक के राजाडेरा में करीब 35 जानवरों की मौत चारा एंव ठंड की वजह से हो चुकी है। उन जानवरों को जंगल में फेंक दिया गया था। इस मामले में जामकर सियासत हुई थी। मगर ग्राम खपरी में जानवरों दुर्दशा पर किसी का ध्यान नहीं गया है। ग्राम समिति अध्यक्ष एंव ग्रामवासियों द्वारा यह बताया गया है कि हमारी फसल को काफी समय से आसपास के गांव के जानवरों द्वारा आकर नुकसान पहुचंाया जा रहा था। ग्रामवासी एंव ग्राम समिति द्वारा कांजी हाउस बनाने हेतु कलेक्टर जनर्दशन में दो तीन बार आवेदन दिया गया है। मगर आज दिनांक तक कांजी हाउस नही मिलने पर हमें मजबूरी में जानवरों को खुले में एंव दलदल में रखने मजबूर है।
 

Add new comment

Plain text

  • No HTML tags allowed.
  • Lines and paragraphs break automatically.
  • Web page addresses and email addresses turn into links automatically.