Skip to main content
Image

खुलेआम शहर में सब्जी विक्रेता 10 रू का सिक्का लेने से इंकार कर रहे

 

अब तक सिक्का नहीं लेने वालों के खिलाफ नहीं हुई कार्यवाही

सब्जी विक्रेताओं की मनमानी, नहीं ले रहे 10 रू का सिक्का रायपुर सहित प्रदेश में शासकीय मुद्रा का अपमान लगातार जारी है। सब्जी विक्रेता एवं फुटकर व्यापारी खुलेआम शहर में 10 रू का सिक्का लेने से इंकार कर रहे है। स्वंय प्रतिनिधि ने आज शास्त्री बाजार में सब्जी खरीदने के दौरान 10 रू का सिक्का सब्जी खरीदकर 5-6 व्यापारियों को देना चाहा तो उन्होंने साफ शब्दों में 10 रू के सिक्के को नकली सिक्का आ रहा है बताकर लेने से इंकार किया। ज्ञातव्य है कि छग में सभी छोटे बड़े व्यापारी 10 रू का सिक्का नहीं लेकर खुलेआम शासकीय मुद्रा का अपमान कर रहे है। इस संबंध में अधिवक्ता आनंद शर्मा से चर्चा करने पर उन्होंने 10 रू का सिक्का नहीं लेने वाले व्यापारियों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही का प्रावधान निहित होने की जानकारी देते हुये इसे राष्ट्रद्रोह की संज्ञा दी। गौरतलब है कि उत्तरभारतीय राज्यों में 10 रू का सिक्का नहीं लेने वालों के खिलाफ अब थाने में बकायदा एफआईआर दर्ज कर मामला अदालत में प्रस्तुत किया जा रहा है। स्वंय रिजर्व बैंक आफ इंडिया के रिजनल मैनेजर सुंदरनगर रायपुर ने अनेकों बार प्रतिनिधि द्वारा पूछे जाने पर 10 रू का सिक्का चलन में जारी रहने की जानकारी दी है। बावजूद इसके खुलेआम 10 रू का सिक्का नहीं लेने पर राजधानी सहित प्रदेश के किसी भी स्थान में अब तक प्रशासन द्वारा मामला संज्ञान में लेकर कार्यवाही नहीं की गई है। मैरीन ड्राइव में सुबह शाम की सैर पर आने वाले राउरकेला इस्पात संयंत्र के पूर्व महाप्रबंधक सुरेश तिवारी ने नींबू चाय के दौरान 10 रू का सिक्का देकर पीने की इच्छा व्यक्त करने पर चाय वाले द्वारा सिक्का नहीं लेने की जानकारी दी। शहर के मुख्य इलाकों में 10 रू का सिक्का नहीं लेकर व्यापारी आम लोगों को मानसिक यंत्रणा तिवारी के अनुसार दे रहे है। अधिवक्ता जेडी बाजपेयी एवं अधिवक्ता के के शुक्ला ने चैंबर आफ कामर्स के व्यापारियों से 10 रू का सिक्का नहीं लेने वाले फुटकर व्यापारियों के खिलाफ अभियान चलाकर कार्यवाही करने की मांग की है।

Add new comment

Plain text

  • No HTML tags allowed.
  • Lines and paragraphs break automatically.
  • Web page addresses and email addresses turn into links automatically.